कोविड-19 के कारण शिक्षा प्रणाली पर प्रभाव ( निबंध )

कोविड-19 के कारण शिक्षा प्रणाली पर प्रभाव, कोविड-19 का शिक्षा पर प्रभाव निबंध | covid-19 ki shiksha par prabhav nibandh | covid 19 aur shiksha | covid-19 shikshan nibandh | covid 19 के दौरान शिक्षा

कोविड-19 का प्रभाव हर एक व्यवस्था पर भारी पड़ा इसके प्रमाण स्वरूप शिक्षा प्रणाली जैसी संस्था को बंद करना पड़ेगा कोविड-19 के प्रभाव को कम करने के अधिकांश सरकारों ने स्कूल कॉलेज अस्थाई रूप से बंद करने का निर्णय लिया यदि हम बात करें शिक्षा जैसी संस्था पर तो क्या प्रभाव रहे आज हम जानेंगे उसके क्या लाभ रहे और उसके क्या नुकसान रहे।

जैसा कि आप जानते हैं कोरोनावायरस एक आरएनए वायरस का समूह है जो पक्षियों और स्तनधारी जीवो के बीमारियों से मनुष्य के श्वसन क्रिया को संक्रमण कर स्वासन प्रणाली को बाधित करता है। मानव बीमारी मे‌ संक्रमण के कुछ लक्षण – सर्दी ,लगातार बुखार, सांस लेने में तकलीफ ,कमजोरी, निमोनिया.

कोविड-19 के कारण शिक्षा प्रणाली पर प्रभाव
covid-19 ke karan education system par parne wale fayeda aur nuksan

वैज्ञानिकों का क्या कहना है

कोरोनावायरस प्राकृतिक ढंग से जानवरों के जरिए इंसान तक पहुंचा हो या वुहान के वायरस की जांच करने वाली लैब से लिंक हुआ हो ऐसा वैज्ञानिकों का मानना हैं.

कोरोना काल में शिक्षा के क्षेत्र में क्या फायदे रहें.

हालांकि स्कूल कॉलेज बंद होने के बाद ऑनलाइन क्लासेज जैसी संसाधनों पर ज्यादा जोर दिया जिससे बच्चों की शिक्षा व्यवस्था पर कुछ ज्यादा असर ना पड़े। शिक्षा की क्षेत्र में मार्केट के अंदर नए नए तकनीकी आइडिया विचार सामने आए जिससे नए तरीके से सीखने का मौका मिला ।

तकनीकी में देखे तो 20-25 % इंटरनेट यूजर्स बढे ये सभी डिजिटल बोर्ड पर चित्र के द्वारा,‌ऑडियो के द्वारा,एनिमेशन के द्वारा , वीडियोस के द्वारा बच्चों को अच्छी क्वालिटीज की शिक्षा दी अच्छे -अच्छे अनुभवी टीचर्स ने वर्क फ्रॉम होम को अपनाया जिससे कोरोनावायरस से संक्रमित विद्यार्थी भी ऑनलाइन क्लास लेने में सक्षम रहे ऑनलाइन शिक्षा व्यावसाय में बढ़ोतरी हुई ।

बच्चों को अपने इकनॉमिक सिस्टम को समझने का भी मौका मिला पढ़ाई करने वाले कुछ विद्यार्थी ने होम ट्यूशंस अपने गली- मोहल्ले में देने लगे, मेचुरिटी बढ़ा ,इकनॉमिकली फैमिली को सपोर्ट करने लगे। बच्चों ने अपने हुनर को देखने का नजरिया निखारा। विद्यार्थियों ने समाजिक मेल- मिलाप बड़ा अपनी रुचि की गतिविधियां नई-नई सामने आई और नए-नए क्षेत्र को जानने का मौका मिला।

करोना काल में शिक्षा के क्षेत्र में क्या नुकसान रहे ?

जैसा कि हम जानते हैं कि 32 करोड स्टूडेंट्स कोरोना काल से प्रभावि हुए स्कूल कॉलेज और ट्यूशन बंद करने पड़ गए पहले से ऑनलाइन जैसी शिक्षा व्यवस्था ना होने के कारण उन्हें कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा जो कि विद्यार्थियो के जीवन में एक संघर्ष के रूप में सामने आता है।

यदि हम शिक्षा जैसी प्रणाली के ऊपर बात करें तो विद्यार्थियों से उनकी राय ही नहीं पूछी जाती जबकि शिक्षा जैसे क्षेत्र में विद्यार्थियों को उनकी राय रखने का विशेष रूप से मौका देना चाहिए शिक्षा जैसी संस्थान पर सरकार कि पहले से कोई भी महत्वपूर्ण कदम नहीं उठाए गए ना ही तकनीकि ,इकोनॉमिकली, नेट फैसिलिटीज और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसी चीजों को उपलब्ध कराया गया।

गांव हो या शहर निम्न वर्ग के व्यवसायों लोग इतना सक्षम नहीं है कि वह अपने बच्चों को स्मार्टफोंस ,लैपटॉप्स या नेट की फैसिलिटी दे सके। ऑनलाइन क्लास करने वाले ऐसे 20 % ही ऐसे विद्यार्थी होंगे जिन्होंने ऑनलाइन क्लास लिया होगा और बाकियों को बिना परीक्षा के ही दूसरी कक्षाओं में जाने के लिए प्रमोट कर दिया गया ऐसे बच्चों का शिक्षा स्तर बहुत नीचे गिरता है जिससे उनके आने वाले कैरियर में बड़ा असर पड़ने की वजह बनती है।

जिन बच्चों ने ऑनलाइन क्लासेज ली उनके हेल्थ पर भी एक बड़ा असर पड़ता है क्योंकि यह शार्ट टाइम के लिए तो अच्छा रहा लेकिन लम्बे समय की प्रक्रिया के लिए कई बीमारियों को न्योता दे रहा। जैसे -दैनिक दिनचर्या में बदलाव , स्ट्रेस , बॉडी पेन, आंखों पर ज्यादा जोर यह सभी शिक्षा जीवन के लिए नुकसानदायक है।

कोविड-19 के कारण बच्चों के बाहर आने जाने में रोक लगा लेकिन हेल्थी स्टूडेंट के लिए शारीरिक गतिविधि या स्पोर्ट्स बॉडी को फिट रखने अथवा शरीर के विकास में महत्वपूर्ण है स्ट्रेस को कम करने में मदद करता है लेकिन पिछले साल से ही इसमें कमी आई है इससे बच्चों की मानसिकता पर प्रभाव पड़ता है। कोविड-19 के कारण शिक्षा प्रणाली पर प्रभाव

FAQ:-

विश्व में covid -19 से संक्रमण की संख्या कितनी है ?

750 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रामक हुए

भारत में पिछले साल कितने लोग covid – 19 से संक्रमित हुए ?

भारत में पिछले साल 1 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमित हुए।

भारत में covid – 19 से पहला संक्रमित राज्य कौन सा है ?

केरल

भारत में पहला संक्रमित व्यक्ति कौन था ?

(20 साल की लड़की) वुहान से भारत लौटी।

भारत में पहला लॉक डाउन कब लगा था ?

24 मार्च

विश्व में पहला कोरोना संक्रमित केस कब मिला था ?

वुहान 31 दिसंबर 2

डिस्क्लेमर :- covid-19 के ऊपर ये हमारी व्यक्तिगत राय है. ये कोई सरकारी documentary नही हैं.

Sonika Raj

मैं भौतिकी ओनर्स से स्नातक की छात्रा हूँ. मुझे लोगो को नयी नयी जानकारी शेयर करना और उनको अपने जानकारी से लाभंविंत करना अच्छा लगता हैं. फ़िलहाल मैं sabkuchhhindi.com के लिए लिखती हूँ.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *